in

‘कशिश..’

Loading...

“मेरे हर उस खालीपन को..भर जाते थे तुम..
उँगलियों से अपनी..किस्सा गढ़ जाते थे तुम..
दरमियाँ होतीं थी..अनकही बातें..औ’ कशिश..
चहकता था..कुछ यूँ..रूह का इक-इक पुर्ज़ा..
गर्माहट से अपनी..साँसें निहार जाते थे तुम..!!!”

Report

Loading...

What do you think?

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

‘मुहब्बत वाला हग़..’

My Vision