1. News

cm yogis strict order to government employees lunch

Disclaimer: This is a user generated content submitted by a member of the WriteUpCafe Community. The views and writings here reflect that of the author and not of WriteUpCafe. If you have any complaints regarding this post kindly report it to us.

सरकारी कर्मचारियों को CM योगी का सख़्त आदेश, आधे घंटे से ज़्यादा लिया लंच ब्रेक तो खैर नहीं

लखनऊ। उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) अपने दूसरे कार्यकाल में ताबड़तोड़ फैसले कर रहे हैं। योगी ने इसी कड़ी में मंगलवार को साफ कहा कि राज्य सरकार (State Government) के कर्मचारी किसी भी सूरत में आधे घंटे से ज़्यादा का लंच ब्रेक (lunch break) न लें।

गाज़ियाबाद में गौशाला में लगी आग, यूपी के पशुधन मंत्री ने गौशालाओं के समीप बनी झुग्गियों को हटाने का दिया आदेश

मुख्यमंत्री ने अपने आवास पर टीम-9 की बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि उन्हें अधिकारियों (officers) और कर्मचारियों (workers) द्वारा लंबे लंच ब्रेक लेने की शिकायतें मिली हैं जिससे कार्यालयों में काम प्रभावित हो रहा है। यूपी (UP) के सीएम ने संबंधित अधिकारियों से यह सुनिश्चित करने को कहा कि लंच ब्रेक 30 मिनट से ज़्यादा न हो। रिपोर्ट्स के मुताबिक, सरकारी कर्मचारियों (government workers) के लिए दोपहर 1.30 बजे लंच ब्रेक लेना आम बात हो गई है और लंच के बाद वे दोपहर 3.30 बजे या शाम 4 बजे के आसपास काम पर लौटते हैं।

दोपहर के भोजन (lunch) के लिए घर जाने वाले वरिष्ठ अधिकारी भी 3 घंटे तक का ब्रेक लेते हैं। ऐसे में अपना काम कराने गए या फिर शिकायतें (complaints) लेकर पहुँचे आम नागरिकों को काफी दिक्कतें होती हैं। माना जा रहा है कि योगी के इस फैसले से आम आदमी को काफी राहत मिलेगी जो अपना पैसा और समय खर्च कर अधिकारियों के पास जाता है और वे अपनी जगह से नदारद मिलते हैं।

सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने BJP पर लगाया विधानपरिषद चुनाव में धांधली करने का आरोप

बता दें कि योगी आदित्‍यनाथ ने बीते मार्च में लगातार दूसरी बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। सूबे का कार्यभार संभालते ही योगी एक बार फिर एक्शन में जुट गए और माफ़ियाओं (mafias) पर नकेल कसने का काम दोबारा शुरू हो गया। योगी ने साथ ही अधिकारियों को सख़्त निर्देश भी दिया कि बुलडोज़र (buldozer) की मदद से अवैध निर्माण (illegal construction) गिराने की कार्रवाई सिर्फ पेशेवर माफ़िया, अपराधियों (criminals) के खिलाफ हो और सुनिश्चित किया जाए कि बुलडोज़र किसी गरीब की झोपड़ी या दुकान की तरफ ना मुड़े। बता दें कि बुलडोज़र योगी के नेतृत्व वाली बीजेपी सरकार (BJP government) का प्रतीक चिन्ह बन गया है।

0

https://theatinews.com/
Do you like theatinewsup's articles? Follow on social!

Login

Welcome to WriteUpCafe Community

Join our community to engage with fellow bloggers and increase the visibility of your blog.
Join WriteUpCafe